सीओए ने नाडा मुद्दे पर चर्चा करने लिए बीसीसीआई पदाधिकारियो को बुलाया

Getty

इंडियन प्रीमियर लीग से संबंधित बैठक में भाग लेने के लिए अगले सप्ताह कोलकाता में भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के कुछ अधिकारियों के साथ, प्रशासकों कि समीति (सीओए) एंटी-डोपिंग उपायों और बीसीसीआई पर राष्ट्रीय एंटी-डोपिंग एजेंसी (नाडा) के तहत आने के दबाव पर चर्चा करेगी|

भारतीय खिलाड़ी इस विचार के साथ बहुत सहज नहीं हैं | वे वर्तमान प्रक्रिया से ही खुश हैं, जिसमें अंतर्राष्ट्रीय डोपिंग टेस्ट और प्रबंधन (आईडीटीएम) खेल मंत्रालय के तहत वाडा मान्यताप्राप्त प्रयोगशाला (एनडीटीएल) में परीक्षण आयोजित किया जाता हैं |

क्रिकेटनेक्स्ट से बात करते हुए बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा हैं कि पूरे मामले को फिर से शुरू करने की आवश्यकता होगी, क्योंकि नए विकास हुए हैं जो दीर्घकालिक प्रभाव डाल सकते हैं | उन्होंने बताया कि, "हां, हम अगले हफ्ते कोलकाता में इस मामले पर बैठक कर चर्चा करेंगे | चलिए देखते हैं कि चीजें कैसे संभलती हैं |"

ऐसा माना जा रहा है कि विश्व एंटी-डोपिंग बॉडी (वाडा) ने आईसीसी से बीसीसीआई को नाडा के साथ काम करने के लिए कहा है | बीसीसीआई ने पहले भी यह स्पष्ट कर दिया था कि वे एक स्वतंत्र निजी एजेंसी (आईडीटीएम) के साथ काम करके खुश हैं, क्योंकि यह वाडा मानदंडों का पालन करते है | बीसीसीआई ने कई बार इस बात को दोहराया है कि यह एक राष्ट्रीय खेल संघ नहीं है और इसे नाडा के तहत आने की जरूरत नहीं है |

सीओए के प्रमुख विनोद राय ने कोई भी निर्णय लेने से पहले पदाधिकारियों के साथ पूरे मामले पर चर्चा करना चाहते हैं | नवंबर में मुंबई में सीओए की एक पूर्व बैठक के बाद, बोर्ड ने सीईओ राहुल जौहरी से खेल विभाग के सचिव को दो पत्र भेजे थे, जिसमे यह तथ्य बताया गया कि भारतीय क्रिकेट बोर्ड एक स्वशासी निकाय है और यह एनएडीए के दायरे में नहीं आता है|


By Pooja Soni - 12 Jul, 2018

    Share Via