रिद्धिमान साहा क्रिकेट में वापसी करने के लिए कर रहे हैं रेंज ट्रैंनिंग

रिद्धिमान साहा | The Hindu

मौजूदा समय में रिद्धिमान साहा क्रिकेट के मैदान से दूर हैं, जिसके चलते वह कोलकाता में अपने परिवार के साथ समय व्यतीत कर रहे हैं|  

टेस्ट विशेषज्ञ स्टम्पर 2018 की शुरुआत के बाद से काफी चोटों से जूझ रहे हैं| वह दक्षिण अफ्रीका के दौरे से हैमस्ट्रिंग की चोट के साथ वापस लौट आये थे,आईपीएल में अंगूठे की चोट लगी थी और फिर कंधे की गंभीर चोट का सामना करना पड़ा था| जिसके चलते उन्हें मैनचेस्टर में एक सर्जरी भी करनी पड़ी|

जिसके बाद धीमी लेकिन स्थिर रिकवरी अवधि के दौरान, साहा ने स्पोर्टस्टार से बात करते हुए अपनी फ़टनेस के बारे में बात की| उन्होंने कहा कि, "नहीं| किसी भी प्रमुख सर्जरी के बाद टाइमलाइन निर्धारित करना या उम्मीद करना मुश्किल होता है| आप कभी नहीं जानते होंगे कि यह कितना समय ले सकता है| दिन-प्रति-दिन निगरानी रखनी पड़ती हैं|"

अपनी  ट्रेनिंग के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि, "मैं स्पष्ट रूप से बहुत बेहतर महसूस कर रहा  हूँ| मैं एनसीए में अपने समय का 99 प्रतिशत दे रहा हूँ| कभी-कभी, एक महीने के सत्र के बाद, मुझे परिवारवालो के पास जाने के लिए चार दिन का ब्रेक मिलता है| मैं फिलहाल रेंज और ताकत की ट्रेनिंग ले रहा हूँ|"
 
साहा ने कहा कि, "यह आपके कंधे के संबंध में आपके हाथों का परीक्षण करता है| भावना, आंदोलन में रेंज हैं| आपकी बाहें कितनी देर तक पहुंच सकती हैं आदि| यहाँ कई अभ्यास हैं| एक बार जब मैं रेंज और ताकत परीक्षण में सफल कर सकता हूँ, तो क्रिकेट गतिविधियां शुरू हो जाएंगी|"

नौ महीने तक बाहर रहने पर उन्होंने कहा कि, "प्रेरणा क्रिकेटर से क्रिकेटर तक भिन्न होती है| यह निश्चित रूप से बाहर रहने के लिए निराशाजनक है| लेकिन यदि आप लंबे समय तक इसके बारे में सोचते हैं तो यह एक बेहतर विकल्प है| आप रेहाब पर जितना अधिक धयान देते हैं,रिकवरी उतनी तेज होगी|"

अपने प्रतिस्थापन ऋषभ पंत की सफलता पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि, "ईमानदारी से कहुँ, तो मैं सभी खेलों को देखने में सक्षम नहीं हूँ| लेकिन मैंने ऋषभ को देखा है| उन्होंने जिस तरह टेस्ट क्रिकेट खेला जैसे कि वह T20 खेलते हैं| यह उनकी शैली है और वह इस तरह से सफल हो रहे हैं| मैं कभी नहीं सोचता कि मेरे स्थान पर कौन खेल रहा है| मैं अपना काम करूंगा, और चयन मेरे हाथों में नहीं है| अगर मैं अच्छा करता हूं, तो मुझे एक मौका मिलेगा| ऋषभ, दिनेश (कार्तिक) या पार्थिव (पटेल), जो भी खेलता है, वे सभी अपनी पूरी कोशिश करने की कोशिश करेंगे, जैसा कि मैं करता हूँ|"


By Pooja Soni - 11 Oct, 2018

    Share Via